मेरी आवाज़ सुनो

भारत माता के चरणों में समर्पित मेरी रचनाएँ

107 Posts

431 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 14057 postid : 1320463

मुझे दूसरे के घर जाना है न / contest

Posted On: 23 Mar, 2017 Contest में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

अपने मित्र सोहन के साथ उसके बहन के घर पहुँचा / सोहन की बहन रेखा की शादी शहर से ४० किलोमीटर दूर एक गांव में हुई थी / सोहन और हम एक दूसरे के गहरे मित्र थे / हमें देखकर पता ही नहीं चलता की हमलोग मित्र है या सगे भाई / रेखा भी मुझे अपने छोटे भाई जैसा प्यार देती / रक्षा बंधन हो या भैया दूज सबमें वह मुझे और सोहन को बराबर का दर्जा देती थी / उसकी शादी हुए ८ साल हो गए थे / दो-दो बच्चे भी हो चुके थे / एक बड़ी बेटी जो लगभग ६ वर्ष की थी और छोटा बेटा चार साल का / वह जब भी मायके आती तो मेरे यहाँ जरूर आती और मुझे भी अपने ससुराल आने के लिए आमंत्रित करती / लेकिन मैं एक बार भी उसके घर नहीं जा पाया था / इस बार जब मैं छुट्टी पर था तब सोहन ने मुझे रेखा के ससुराल जाने का प्रस्ताव रखा / मैंने उसके प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया / पहली बार मैं उसके ससुराल जा रहा था / मैंने रेखा के लिए एक साड़ी तथा बच्चों के लिए मिठाइयां और कुछ चॉकलेट ले ली / उसकी बेटी मिठाइयों की बड़ी शौक़ीन थी / बेटा को चॉकलेट पसंद था / मुझे दोनों के पसंद मालूम थे इसलिए मैंने दोनों के पसंद का ध्यान रखा / हमलोगों को अपने घरपर आया देखकर रेखा बहुत खुश थी / उसकी बेटी ने जब सूना की मैं आया हूँ तो वो मामा-मामा कहती हुई आकर मुझसे लिपट गई / उसका बेटा शर्मीले स्वभाव का था / वह अपने माँ के गोद से नज़रें झुकाकर मुझे देखने का प्रयास कर रहा था / मैंने उसे पुचकारना चाहा तो वह मुझसे छुड़ाकर अपनी माँ से और जोरो से लिपट गया / रेखा हमलोगों को बैठकखाने में बैठाकर बच्चे को लेकर अंदर चली गई / बेटी अभी भी मेरे पास थी / वह बहुत ही खुश थी / मैंने मिठाई का पैकेट खोलकर उसकी ओर आगे बढ़ाते हुए कहा -
” ये लो तुम्हारे पसंद की मिठाइयां ” /
वह ख़ुशी से मचल उठी / पुरे पैकेट को लेकर अंदर दौड़ते हुए चली गई /
सोहन बाथरूम में फ्रेश होने के लिए चला गया / थोड़ी ही देर में रेखा की बेटी मेरे पास आई /
मैंने उससे पूछा -” मिठाइयां कैसी थी ?”
उसने जबाब दिया “अभी मैंने नहीं खाया / ”
” क्यों ! तुम्हे तो मिठाइयां बहुत पसंद है न ?”
” हाँ वो तो है / लेकिन अभी तो बाबू को दे दिया है / बाद में खा लुंगी /
” बाबु के लिए तो मैं चॉकलेट लाया हूँ / उसे चॉकलेट पसंद है इसलिए /”
” तो क्या हुआ / उसे मिठाई भी पसंद है /”
” मिठाइयां तो बहुत सारी है / तुम भी उसमे से कुछ खा लो /”
” नहीं पहले वो खायेगा फिर बचेगा तो ही मैं खाऊँगी /”
” ऐसा क्यों ? ”
” वो तो लड़का है न / ”
उसका जबाब सुनकर मैं आश्चर्यचकित था /
” लड़का है तो क्या हुआ ?”
” दादी मां कहती है / उसे बड़ा होकर काम करने के लिए बाहर जाना होगा / उसे बहुत ताकत की जरुरत पड़ेगी / इसलिए उसे ज्यादा ज्यादा खाना चाहिए /’
” और तुम ?”
” मैं तो लड़की हूँ न / मुझे तो घर में ही रहना है / घर का काम करना है तो मैं कम भी खाऊँगी तो चल जाएगा / इसलिए जो भी चीज घर में आता है उसे पहले बाबु को दिया जाता है वह खाकर छोड़ता है तब मैं खाती हूँ /”
“और वह पूरा खा गया तो ?”
” मुझे नहीं मिलता / ”
” तो तुम अपने लिए जिद नहीं करती /’
” नहीं हमें जिद्दी नहीं बनना चाहिए / जो घर में मिले या बचे उसी से अपना काम चलाना चाहिए / नहीं तो आगे चलकर बहुत दिक्कत होगी /’
” तुझे दिक्कत होगी और बाबू को क्यों नहीं ?”
फिर उसने शरमाते हुए कहा ‘
” मुझे दूसरे के घर जाना है न / बाबु तो इसी घर में रहेगा / ”
मैं उसके इन जबाबो से सन्न रह गया था /

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

harirawat के द्वारा
April 26, 2017

राजेश बेटे, क्या कमाल का लिखते हो, अरे तुमने तो मुझे रुला ही दिया ! यह एक हकीकत है, तुमने इसे महसूस किया, मैं तो हैरान हूँ इतना उच्च स्तर का जनजागरण वाला लेख पाठकों की नजर से कैसे बचा रह गया ! ऐसे ही लिखते रहो और पुरुष्कार पाओ ! शुभ कामनाओं के साथ ! हरेंद्र


topic of the week



latest from jagran