मेरी आवाज़ सुनो

भारत माता के चरणों में समर्पित मेरी रचनाएँ

101 Posts

426 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 14057 postid : 1141825

इज्जत ( लघु कथा )

Posted On: 26 Feb, 2016 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

कालबेल बजते ही श्रीमती जी दौड़े -दौड़े आई , दरवाजा खोला और मुस्कुराकर धन्यवाद कहते हुए मेरे हाथ से थैले को ले लिया / फिर थैले से एक -एक कपडे निकालने लगी / कांजीवरम साड़ी, पेटीकोट, डिजायनर ब्लाउज के बाद जैसे ही उन्हें एक शर्ट और पेंट दिखाई दिया उनका खिला चेहरा अचानक से मुरझा गया / उसने ऊँचे आवाज़ में पूछा ” ये किसके लिए ?”
” मैंने अपने लिए लिए है / ”
फिर क्या था सारे कपड़ों को उठाके जमीन पर पटक दी और शुरू हो गई -
” क्या जरुरत थी तुमको पेंट -शर्ट लेने की / दर्जन भर पड़े हुए है / मैं एक -एक पैसा बचा कर घर चलाऊ और तुम्हे उड़ाते देर नहीं लगती /”
मै अपराधी की तरह सर झुकाये सब सुन रहा था /
उनका रिकॉर्ड चालू था -” माना की तुम कमाते हो / लेकिन घर तो मुझे ही सम्हालना पड़ता है न / इस तरह की फिजूलखर्ची करते रहे तो एकदिन पुरे परिवार को सड़क पर आ जाना पडेगा / ”
” लेकिन तुमने ही तो कहा था “- मै उसे उसकी कही बात को याद दिलाना चाहा /
” क्या कहा था ? क्या कहा था ? -उसने मुझसे जानना चाहा /
” तुमने कहा था कि मिश्रा जी के बेटी कि शादी में जाना है / बड़े लोग कि पार्टी है / बड़े-बड़े लोग आएंगे / तुमने अपनी सारी साड़िया एक न एक बार पहन लिया है / इसलिए कोई नया साड़ी पहनना होगा / नहीं तो इज्जत का सवाल है / लोग हसेंगे कि तुम एक ही साड़ी को एकाधिक पार्टियों में पहनती हो / ”
” हाँ वो तो मैंने अपने साड़ी के लिए कहा था/”
” फिर दुकान में मुझे ख्याल आया कि मैं भी तो अपने सारे कपड़ों को अनगिनत बार पहन चुका हूँ / इसलिए मैंने भी अपने लिए नए कपडे ले लिए आखिर पार्टी तो मुझे भी अटेंड करना है /”
मेरे अकाट्य तर्क के सामने श्रीमती जी थोड़ी नरम पड़ती नज़र आई /
फर्श पर पड़े कपड़ों को सहेजते हुए बोली ” खैर छोडो / मैंने और कुछ भी लाने को कहा था /”
” हाँ , लोरियल का फेस क्रीम, फेस पाउडर , और लोटस का लिप लाइनर और लिपिस्टिक तथा काजल सब मिल गया / उसी थैले में है /”
” पार्लर वाली को बोल दिए ना ?”
” हाँ उसे भी बोल दिया हूँ / गोल्ड फेसियल के लिए चार हज़ार लेगी / मैंने उसे ५०० रुपये देकर बुक कर दिया है /”
” धन्यवाद / लेकिन तुम्हे इतने महंगे शर्ट-पेंट नहीं लेने चाहिए थे / पैसे के दिक्क्त चल रहे है / भविष्य के विषय में भी सोचना चाहिए /”
” लेकिन क्या करू / तुम्हारे भैया को महंगे और ब्रांडेड कपडे ही पसंद है जो /”
” तो तुम कब से मेरे घरवालों की पसंद की कपडे पहनने लगे ?”
” ये मेरे लिए नहीं तुम्हारे भैया के लिए ही है / अगले सप्ताह उनका जन्मदिन है और तुम तो उन्हें बिना उपहार दिए मानोगी नहीं / बाजार गया था तो सोचा क्यों नहीं ये भी निपटाता चालू /”
” सचमुच तुम बहुत महान हो / नाहक मै तुम पर गुस्सा कर बैठी / मैं तो भूल ही गई थी / तुम्हे याद है मेरे भैया का जन्मदिन / और कुछ तो उपहार देना ही पडेगा आखिर इज्जत का सवाल जो है / ”
मैंने मन ही मन कहा भले ही मैं अपना सब दिन भूल जाऊ ससुराल वालों का प्रत्येक दिन याद रखना पड़ता है / तूफान से किसे डर नहीं लगता /

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran