मेरी आवाज़ सुनो

भारत माता के चरणों में समर्पित मेरी रचनाएँ

101 Posts

426 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 14057 postid : 1108975

रावण दहन

Posted On: 17 Oct, 2015 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

दो पैर , दो भुजाएँ /
चौड़ी छाती, मजबूत कंधे -
बिशालकाय शरीर बनाई /
उस पर दस शीश लगाई /
पुतला निस्तेज पड़ा था /
फिर उसे सहारा दिया -
खड़ा किया /
फिर भी पुतला चुप था /
हाथों में हथियार थमाएँ /
आँखों में नफ़रत का रंग भरा /
पुतले में कोई हलचल ना हुई /
फिर भी मन ना भरा /
हाथ , पैर , पेट, पीठ ,
एक-एक अंग में बारूद भरा /
पुतला डरा, सहमा /
बारूद के जहर से कराहा /
लेकिन कुछ ना किया ना कहा /
फिर उस बारूद में आग लगा दी गई /
पुतला धूं- धूं करके जलने लगा /
अपने को बचाने के लिए /
छटपटाने लगा /
जलते बारूद बिखरने लगे /
लोगों पर गिरने लगे /
लोग जलने लगे /
गिरने -पड़ने लगे /
भागने चिल्लाने लगे /
एक दूसरे को कुचलने लगे /
अगले दिन लोगों ने कहा /
रावण, सचमुच बड़ा शैतान था /
पुतले की आत्मा ने अट्टाहास किया /
रावण बड़ा शैतान था ?
बनाया इसको -
वो क्या इंसान था ?
images

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Rajesh Kumar Srivastav के द्वारा
October 19, 2015

Dhanyavaad. Apko bhi Nawaratri ki shubhkaamnayen .

jlsingh के द्वारा
October 17, 2015

अगले दिन लोगों ने कहा / रावण, सचमुच बड़ा शैतान था / पुतले की आत्मा ने अट्टाहास किया / रावण बड़ा शैतान था ? बनाया इसको – वो क्या इंसान था ? गजब सन्देश गढ़ा है आपने, आदरणीय श्रीवास्तव जी! आपको नवरात्री की शुभकामनायें


topic of the week



latest from jagran