मेरी आवाज़ सुनो

भारत माता के चरणों में समर्पित मेरी रचनाएँ

107 Posts

431 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 14057 postid : 924864

सीख (शिक्षाप्रद कहानी ---३)

Posted On: 29 Jun, 2015 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

अक्सर जब घर में कमाने वाला एक और खाने वाले अत्यधिक हों तो जो हाल होता है वही हाल सुधीर का था/ उसके अलावा, परिवार में माता -पिता,एक बेरोजगार भाई, एक अविवाहित बहन और एक तलाकशुदा बहन अपने दो-दो बच्चों के साथ एक ही घर में रहते थे / सभी के खर्च का जिम्मा सुधीर ही उठाता था / पिताजी रिटायर्ड हो चुके थे और नाम मात्र का पेंशन पाते थे / छोटा भाई और बड़ी बहन ट्यूशन पढ़ाकर मामूली आय करते थे / माँ हमेशा बीमार रहती थी / माँ के इलाज और छोटी बहन के पढाई में अच्छा -खाशा खर्च होता था / सुधीर एक कंपनी में इंजीनियर था / उसकी आय अच्छी थी / लेकिन सारा आय परिवार में ही खर्च हो जाता था / सुधीर भी परिवार के ख़ुशी में ही अपनी ख़ुशी मानता था / अच्छे पोस्ट और अच्छे आय के वावजूद वह साधारण जीवन व्यतीत करता था/ उसे इसका कोई अफ़सोस नहीं रहता की अच्छे आय के वावजूद वह अपनी निजी इच्छाओं को पूर्ति करने में असमर्थ था/ लेकिन धीरे -धीरे सहकर्मियों के पहनावों -ओढ़े, खान-पान, जीवन -यापन को देख देखकर उसके सोच में परिवर्तन होने लगा / उसे लगने लगा की इतना अच्छा कमाने के वावजूद वह अपने लिए अलग से कुछ खर्च नहीं कर पाता / उसे भी आधुनिक और मौज-मस्ती की दुनिया लुभाने लगी / परिवार के साथ रहकर ऐसा सम्भव नहीं था / इसलिए उसने घर छोड़कर बाहर नौकरी के लिए जाने का निर्णय किया /
घर के लोग उसके निर्णय से खुश नहीं थे / लेकिन उसे उनलोगों की परवाह ना की / उसने घरवालों को समझाया कि बाहर जाना उसके कैरियर के लिए बहुत जरुरी है /
कुछ ही दिनों में उसे दूर मुंबई शहर में एक अच्छी कंपनी में काम करने का ऑफर मिला / वह मुंबई जाने के लिए स्टेशन पहुँचा / टिकट कटाकर समय सारणी बोर्ड पर ट्रेन का समय देख रहा था / अचानक उसे पीछे से अपने पैंट को खीचने जैसा महसुस हुआ / उसने मुड़कर देखा मैली कुचली, फटी सलवार कुर्ती पहने हाथ में कटोरे लिए एक किशोरी भीख मांग रही थी /
सुधीर को अपनी तरफ मुड़कर देखते ही वह बोल उठी -” बाबू पांच रूपये दो ना भूख लगी है भात खाऊँगी /”
सुधीर-” पांच रुपये में भात मिल जाएगा /”
किशोरी-” हाँ बाबू और कुछ लोगों से मांगकर भात खा लुंगी / पांच रुपये दो ना / भगवान तुम्हे भला करेगा /”
किशोरी की रोनी सूरत देखकर सुधीर को दया आ गई /
सुधीर-” यहाँ भात कितने का आता है ?”
किशोरी-” पचास रुपये का बाबू / ”
सुधीर-” कहाँ मिलेगा भात /”
किशोरी ने सामने एक होटल को दिखाकर कहा ” वहाँ /”
सुधीर ने घडी पर नज़र डाली अभी ट्रेन के आने में देर थी / उसने किशोरी से कहा ” चलो मैं तुम्हे भात खिलाता हूँ /” फिर वह उस होटल की ओर बढ़ने लगा /
किशोरी उसके रास्ते में खड़े होकर आगे बढ़ने से रोका और बोली ” काहे को इतना कष्ट करोगे बाबू / मुझे रुपये दे दो मैं खा लुंगी /”
सुधीर – ” तुम मेरे कष्ट की चिंता मत करो / चलो तुम्हे जो खाना है खाओ / जितने पैसे होंगे मैं दे दूंगा /”
किशोरी -” तो एक काम करो बाबू तुम मुझे पचास रुपये दे दो मैं खुद खा लुंगी /”
सुधीर -” पैसा तो मै तुम्हारे हाथ में नहीं दूंगा / तुमलोग पैसा लेकर गलत जगह खर्च कर देते हो / चलो जो खाना है खाओ मैं पैसा चुका दूंगा / और तुम्हे तो बहुत भूख भी लगा है ना/”
किशोरी ने अपने दोनों कानों को पकड़ते हुआ कहा -: कसम से मैं वैसी नहीं हूँ / तुम नहीं समझते बाबू / मैं अभी नहीं खा सकती /”
सुधीर-” क्यों नहीं खा सकती ?”
किशोरी-”घर वाले भूखे है ना /”
सुधीर ने उत्सुकता दिखाते हुए पूछा ” कौन-कौन हैं तुम्हारे घर में ?”
किशोरी-” बाबा बीमार है / खाट पर पड़े रहता है / माँ उसकी देखभाल में लगी रहती है / छोटा भाई है लेकिन उसे ठीक से भीख मांगने नहीं आता /”
सुधीर-” तो तुम खा लो / वे लोग भी बाद में खा लेंगे /”
किशोरी -” एक काम करोगे बाबू / तुम मुझे जितने के खाना खिलाना चाहते हो उतने का मुझे चावल, दाल और अंडे खरीद दो /”
सुधीर -” इससे क्या होगा?”
किशोरी -” हमलोग आज घर में पार्टी करेंगे / दाल भात के साथ आमलेट / बहुत अच्छा लगेगा / बहुत दिन हो गया ऐसा खाना नहीं मिला/”
सुधीर -” लेकिन पचास रुपये में जो सामान आएगा उससे तो दो लोगों का मुश्किल से भोजन हो पायेगा / और तुम्हारे घर में तो चार सदस्य है / ”
किशोरी -” उससे क्या होगा बाबूजी / थोड़ा -थोड़ा कम खाएंगे लेकिन सब मिलकर खाएंगे / अकेले भर पेट दावत उड़ाने से ज्यादा मजा एक साथ मिलकर खाने में आता है बाबूजी / भले ही थोड़ा कम क्यों ना हो /”
किशोरी की बात को सुनकर सुधीर को स्वयं से घृणा होने लगा / उसने अपना इरादा बदल दिया / पॉकेट से एक सौ रुपये का नोट निकालकर उस किशोरी के हाथों में रखते हुए बोला “मुझे सिख देने के एवज़ में मेरी ओर से यह गुरुदक्षिणा /”
फिर उसने टिकट लौटाए और ख़ुशी-ख़ुशी घर की ओर लौट पड़ा/

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

ashasahay के द्वारा
July 3, 2015

कहानी व्यक्तिवाद की आदर्श प्रतिक्रिया है बहुत सुन्दर। आशा सहाय


topic of the week



latest from jagran